ads

                                                                   


                                                                   

                                             रूप उसका अनोखा


कभी सूरज सा तेज  

कभी चाँद सी शीतलता   

कभी नदी सी हलचल 

कभी समुद्र सी गहराई 

  

   कभी पर्वत सी मजबूत जैसे माँ अन्नपूर्णा हो

   कभी हरा भरा पेड़ जैसे माँ कल्याणी 

   कभी दिन सी रोशन जैसे माँ महागौरी 

    कभी  रात  सी काली जैसे माँ महाकाली 


कभी ऐसी , जैसे घर की लक्ष्मी  हो 

कभी ऐसी ,जैसे समाज की संस्थापक 

कभी ऐसी , जैसे  ममता की मूरत 

कभी ऐसी , जैसे हो वो सर्वज्ञ 


           कभी इतनी भोली जैसे वो गाय हो 

           कभी इतनी चतुर जैसे वो चील हो 

           कभी इतनी धीरे जैसे वो अकेली 

           कभी इतनी तेज़ जैसे हो जंगल की शेरनी 


कभी प्रकृति तो कभी देवी का रूप है लिया 

हे प्रभु! अब तू बता ऐसा कौन सा रूप है 

जो तूने माँ को नहीं दिया | | 

Post a Comment

और नया पुराने